Leucorrhoea Homeopathic Treatment in Hindi

Spread the love

Leucorrhoea Homeopathic Treatment in Hindi : Leucorrhoea Homeopathic Treatment in Hindi language available here.

Leucorrhoea Homeopathic Treatment in Hindi language

 

ल्‍यूकोरिया का होम्योपैथिक उपचार हिंदी में – आइये जानतें हैं ल्‍यूकोरिया का होम्योपैथिक द्वारा उपचार कैसे करते हैं।

क्या है ल्‍यूकोरिया ?

महिलाओं में योनि मार्ग से आने वाले सफेद और चिपचिपे गाढ़े स्राव को ल्‍यूकोरिया कहते हैं। ल्यूकोरिया या श्वेत प्रदर स्वयं में एक आम बीमारी है लेकिन नजरअंदाज करने पर यह गंभीर बीमारी का रूप ले सकती है।ये महिलाओ में युवावस्था के बाद किसी भी उम्र में हो सकता है, इस समस्या से महिलाएं परेशान रहती हैं. ये सिर्फ भारतीयों की परेशानी नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्व की महिलाएं इस समस्या से परेशान रहती हैं. ये सामान्य तौर से सफ़ेद रंग का होता हैं परन्तु किसी इंफक्शन के कारण ये द्रव्य नीला, पीला, या लाल रंग का भी हो जाता है और साथ ही इसमें से बदबू आने लगती हैं। अलग अलग महिलाओं में ये समस्या अलग अलग रूप से दिखाई देती हैं .इतना ही नहीं बल्कि इस समस्या के अवधी भी महिलाओं में अलग अलग होती हैं.

ल्‍यूकोरिया के कारण

महिलाओं में ल्‍यूकोरिया की समस्या आम हैं इसके कई सामान्य कारण हैं, जिसमे कुछ मुख्य कारण निम्न हैं :-
शरीर में पोषण की कमी
योनि के अंदर ‘ट्रिकोमोन्‍स वेगिनेल्‍स’ नामक बैक्‍टीरिया की मौजूदगी
तीखे, तेज मसालेदार और तले हुए खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन,
योनि या गर्भाशय के मुख पर छाले,
बार-बार गर्भपात होना या कराना,
मूत्र स्थान में संक्रमण,
योनि की अस्वच्छता,
खून की कमी,
गलत तरीके से सेक्‍स,
अत्यधिक उपवास,
बहुत अधिक श्रम,
शरीर की कमजोर रोगप्रतिरोधक क्षमता और डायबिटीज के कारण योनि में सामान्यतः फंगल यीस्ट नामक संक्रामक रोग के कारण यह समस्‍या होती है।

ल्‍यूकोरिया के लक्षण

ल्‍यूकोरिया के कुछ सामन्य लक्षण हैं
शारीरिक कमजोरी
कमजोरी का अनुभव,
हाथ-पैरों और कमर-पेट-पेडू में दर्द,
पिंडलियों में खिंचाव,
शरीर भारी रहना,
चिड़चिड़ापन
चक्कर आना,
आंखों के सामने अंधेरा छा जाना,
भूख न लगना,
शौच साफ न होना,
बार-बार यूरीन,
पेट में भारीपन,
जी मिचलाना,
योनि में खुजली आदि शामिल है।
मासिक धर्म से पहले, या बाद में सफेद चिपचिपा स्राव होना इस रोग के लक्ष्ण हैं। इससे रोगी का चेहरा पीला हो जाता है।
योनि से सफ़ेद स्राव निकलने लगता हैं।

ल्‍यूकोरिया के लिए होम्योपैथिक दवाये :

ल्‍यूकोरिया के लिए Sepia 30ch की, २ ड्राम बनवा लें, और इसकी ४-४ गोली दिन में ३ बार लें, ४ गोली सवेरे, ४ गोली दिन में, और ४ गोली शाम को.
Hertone टॉनिक को १ चम्मच, दिन में ३ बार.
Ova Tosta 6 , की २ ड्राम बनवा लें, और इसकी इसकी ४-४ गोली दिन में ३ बार लें, ४ गोली सवेरे, ४ गोली दिन में, और ४ गोली शाम को

 

जानें पेप्टिक अल्सर का होम्योपैथिक द्वारा उपचार कैसे करते हैं।