Hydrocele Homeopathic treatment, हाइड्रोसेल का होम्योपैथिक उपचार

पुरुषों के अंडकोष के आसपास तरल भरी थैली जैसी आकृति होना, अंडकोष में सूजन समझा जाता है। यह एक अंडकोष या दोनों में हो सकता है, इसे हाइड्रोसील कहते हैं। नवजात बच्चों में हाइड्रोसील होना एक सामान्य बात है क्योंकि गर्व के दौरान कई बार तरल खुले टूयूब के माध्यम से पेट से नालियों में आना और वृक्षणकोश में फंस जाता है और इसी कारण वृक्षण फूल जाता है और बच्चों में यह जन्म के कुछ समय के बाद ठीक हो जाता है, पुरुषों में इसका कारण टेस्टिकल के आसपास अधिक फ्लूइड का निर्माण हो सकता है , इसे प्रोसेसस वजायनेलिस या पेटेंट प्रोसेसस वजायनेलिस भी कहा जाता है।

कारण: संक्रमण (एपिडीडीमिसिस ) के कारण भी हो सकता है :
चोट लग जाने के कारण, यदि प्रोसेसस वजायनेलिस की ओपनिंग बहुत छोटी है तो आते तो नहीं परंतु पेट का फ्यूल वृक्षण में भी जाकर हाइड्रोसिल कर देता है।

लक्षण: अंडकोष में सूजन इसका मुख्य लक्षण है वृक्षण में पानी भर जाने के कारण यह गुब्बारे जैसा दिखता है, तेज दर्द होना आदि लक्षण हो सकते हैं। हाइड्रोसील को खत्म करने के लिए होम्योपैथिक दवाइयां है परंतु एक बात का ध्यान रहे कि हाइड्रोसील की वृद्धि रोकने के लिए अंडकोष को बांध के रखे, उन्हें लटकने ना दें और कूदते या भारी सामान उठाने समय उन्हें ढीला न छोड़े।

दवाइयां: Arnica 200, (सप्ताह में 1 दिन 2 बुँदे ,10 मिनट के अंतर से तीन बार ) सुबह, दोपहर ,शाम Lycopodium 30, 2 बुँदे सुबह, दोपहर, शाम Rododendron 30, 2 बुँदे , सुबह, दोपहर, शाम। Calc. Fluorica 6x की 4 गोलियां सुबह, दोपहर, शाम को ले।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *