Crack Heels

फटी एड़ियां

फटी एड़िया एक आम परेशानी है परन्तु ये एक दर्दनाक बीमारी बन सकती हैं अगर समय रहते फटी एड़ियों का उपचार नहीं किया जाये तो | इतना ही नहीं फटी एड़ियां अक्सर महिलाओं के लिए शर्मिंदगी का कारण भी बन जाती हैं , फटी एड़ियां जहा एक तरफ शर्मिन्दिगी का कारण बनती हैं, वही दूसरी तरफ इनमे से कभी कभी खून भी निकलने लगता हैं |
यह समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक देखी गयी है।परन्तु आजकल ये देखने को मिलता हैं की बरसातों के मौसम से ही एड़ियों का फटना शुरू हो जाता हैं |

फटी एड़ियों के कारण

फटी एड़ियों का मुख्य कारण हैं पैरों की सही देख भाल न कर पाना, समय समय पर पैरों को न धोना, पैरों में चपलों का अधिक प्रयोग करना , नंगे पाव घूमना, गर्मियों के मुकाबले ठंडो में ये समस्या ज्यादा देखी जाती हैं…., आदि कारण फटी एड़ियों के कुछ मुख्य कारण हैं।

फटी एड़ियों के लक्षण :

इन परेशानियों का लक्षण है जैसे
पैरों में लाली , खुजली, सूजन
स्किन का फटना और साथ में त्वचा का रूखा व पतला हो जाना है |
इसके पहले कि दरारें (Cracks ) गहरी हो जाए और उसमे से खून (Bleeding ) आने लगे या दर्द हो, हम सही उपचार से बच सकते हैं |

फटी एड़ियों के लिए होम्योपैथिक उपचार

एड़ियों के फटने पर आप कुछ होम्योपैथिक दवाये इस्तेमाल कर पैरो की सुंदरता को बनाये रख फटी एड़ियों से निजात पा सकते हैं :
Calendula officinalis – Q से फटी एड़ियों को रुई की मदद से साफ करें
No crack cream को फटी एड़ियों में दिन में दो बार प्रयोग करें
Petroleum ३० की ५ बुँदे दिन में ३ बार लें ( ५ बुँदे सवेरे, ५ बुँदे दिन में, ५ बुँदे शाम को )
Natrum Sulp 6x की ४ गोली दिन में ३ बार लें, ( ४ गोली सवेरे, ४ गोली दिन में , ४ गोली शाम को )

इन दवाओं को सही मात्रा व सही समय पर प्रयोग करें साथ ही पाव को साफ रखे और गर्म पानी से धोये हो सकते को चपलों से ज्यादा जूतों का इस्तेमाल करें।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *