Conjunctivitis

कंजंक्टिवाइटिस आंखों से संबंधित एक बीमारी होती है। जिसे हम आँख आना कहते है यह आंखों से संबंधित एलर्जी होती है जिसके कारण आंखें लाल या गुलाबी रंग की हो जाती है और उनमें सूजन आ जाना, दर्द होना और पानी गिरने की समस्या पैदा हो जाती है। इसके साथ ही आँखों से पानी आना और सुबह के समय आँख न खोल पाना इसका एक मुख्य लक्षण हैं, कंजंक्टिवाइटिस को लोग अक्सर संक्रामक बीमारी मान लेते हैं लेकिन यह संक्रामक नहीं होती है। यह एक साथ दोनों आंखों को प्रभावित करती है। ये किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभवित कर सकता हैं.
कंजंक्टिवाइटिस के कारण
केमिकल या डिटरजेंट के संपर्क में आने से भी कंजंक्टिवाइटिस हो सकता है
धूल- मिट्टी के आँख में चले जाने के कारण
पेड़- पौधों से एलर्जी के कारण
जानवर के डंक लगने के कारण
आँखों में इन्फेक्शन के कारण
कंजंक्टिवाइटिस के लक्षण
आँखों का लाल या गुलाबी होना
आँखों में जलन, खुजली, चिपचिपा श्लेष्म निर्वहन करती है जो की बैक्टीरिया के कारण हो सकती हैं।
जबड़े के नीचे या कान के सामने एक सूजन लिम्फ नोड, और एक या दोनों आंखों से श्लेष्म का एक हल्का निर्वहन अक्सर वायरल के कारण आँख आने के लक्षण होते हैं।
वायरल के कारण आंख आने वाले लोगों में आमतौर पर ऊपरी श्वसन संक्रमण या ठंड के लक्षण होते हैं।
आँसू के साथ एलर्जी आँख आने के लक्षण को इंगित कर सकते हैं।
आँख आने के लक्षण में दृष्टि में थोड़ा धुंधलापन आना शामिल है।

कंजंक्टिवाइटिस का होम्योपैथिक उपचार
Argentum Nitricum 200ch की २ बुँदे दिन में २ बार लें
Euphrasia Officinals 30ch की २-५ बुँदे दिन में ३ बार लें
Belladonna 6 की २-५ बुँदे दिन में ३ बार लें
Euphrasia Eyedrop की २-३ बुँदे दिन में ५-६ बार आँखों में डालें
इन दवाओं का उपयोग करने के साथ साथ धूल मिटटी से अपनी आँखों को बचाये.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *