Spread the love

किडनी की पथरी बिना ऑपरेशन जड़ से इलाज :Kidney Stones Treatment Hindi

किडनी की पथरी जिसे गुर्दे की पथरी भी कहा जाता है. इस समस्या में गुर्दे के अन्दर छोटे छोटे या बड़े पत्थरों बंनने लगते है.लम्बे समय तक गुर्दे की पथरी  के कारण मूत्राशय में परेशानी आने लगती हैजिसके कारण मूत्र मार्ग में रुकावट आ जाती है. भारत में १८ प्रतिशत लोगों में किडनी पथरी है, और कई बार इस बीमारी के चलते किडनी ख़राब हो जाती है. जिसके परिणाम बहुत गंभीर हो सकते है. जरूरत है वक़्त रहते सही उपचार की. इस लेख में आप जानेगे :

  • क्या है और क्यों होती है किडनी में  पथरी?
  • स्टोन कितने प्रकार के ?
  • पथरी के लक्षण?
  • किडनी में पथरी के लिए सरल और सही उपचार.
किडनी की पथरी

पथरी क्या होती है?

स्टोन या पथरी होना  एक प्रकार के रोग है जिसमे किडनी में या गाल ब्लैडर में पत्थर के कण जमा होने लगते है. समय के साथ ये अपना आकर बदलते है और बढ़ने लगते है. जैसे जैसे ये बढ़ते है वैसे वैसे दर्द करते है. ये दर्द बढ़ कर असहनीय हो जाता है,अगर गुर्दे में पथरी की बात करें तो इसमें गुर्दे के अन्दर छोटे या बड़े पत्थर बनने लगते है. गुर्दे में एक समय पर कई पत्थर हो सकते है. इस समस्या के कारण मुत्रनालिका में समस्या आने लगती है और कई बार मूत्र मार्ग ब्लाक हो जाता है. 

पथरी के लिए अक्सर ऑपरेशन का सुजाव दिया जाता है. परन्तु होम्योपैथिक उपचार से बिना ऑपरेशन के गुर्दे की पथरी को जड़ से खत्म किया जाता है. डॉ नवीन चन्द्र पाण्डेय जी द्वारा अभी तक लाखो पथरी के रोगियों को बिना किसी ऑपरेशन के  पथरी से मुक्त किया जा चूका है.

क्यों होती है पथरी ?

जब यूरिन में रसायन ज्यादा हो जाते है तो वो जमा हो कर पथरी का रूप लेलेते है. पथरी होने के और भी कई कारण जैसे :

पानी कम पिने के कारण पथरी होना.

अधिक मात्रा में नमक का सेवन गुल्कोस का सेवन या कैल्शियम युक्त चीजों का सेवन करने के कारण

थायरोइड रोग के कारण भी पथरी की समस्या हो सकती है.

साथ ही किसी सर्जरी के बाद भी ये समस्या होना सामान्य है. 

गुर्दे की पथरी ४ प्रकार की होती है consult online

  • स्टुवाइट पथरिया 
  • सिस्टीन पथरिया 
  • यूरिक एसिड पथरिया 
  • कैल्शियम पथरियापथरी अगर छोटे आकर की हो तो पानी पिने मात्र से निकल जाती है.

किडनी स्टोन के लक्षण  :

पथरी के रोगी में जो मुख्य लक्षण देखने को मिलते है वो निम्न है :

  • मूत्र  रुक रुक कर आना 
  • बार बार पेशाब आना 
  • अचानक पेट में दर्द होना 
  • मूत्र में खून आना
  • पेट में दर्द या उलटी होंना आदि  

किडनी में  पथरी के लिए उपचार 

पथरी होने पर अक्सर डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह देते है परन्तु होमियोपैथी में बिना ऑपरेशन किडनी की पथरी का कुशल उपचार किया जाता है. इसलिए अगर आपको किडनी में पथरी की शिकायक है तो जल्द ही होम्योपैथिक डॉक्टर से परामर्श लें.

नीचे दिए गये विडियो में डॉ नवीन चन्द्र पाण्डेय जी द्वारा पथरी में डाइट और किडनी की पथरी के लिए कुशल उपचार बातया गया है.