Spread the love

आँखों के रोग के लिए घरेलू और होम्योपैथिक उपचार

आँखों की समस्या के लिए होमियोपैथी में उपचार

आंखे हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है. इन्ही आँखों से हम इस सुन्दर सी रंग बिरंगी दुनिया को देखते है. इसलिए आँखों की देखभाल करना बहुत जरुरी है. गर्मी हो या सर्दी आँखों में कई तरह की समस्यां हो जाती है. आँखों में थोडा सा विकार होना बड़ी समस्या बन जाती है. मुख्य रूप से आँखों में – रतोंधी, मोतियाबिन्द, आंखे दुखना, गुहेरी,लालिमा ,आदि.
आँखों की समस्या से बचने के लिए विटामिन ए बहुत महत्वपूर्ण है. इसलिए भोजन में विटामिन ए को जरुर शामिल करें.
साथ ही कुछ घरेलु और होम्योपैथिक दवाओ को अजमाकर आप आँखों की सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते है.

नोट : अन्य दवाओ के कुछ न कुछ दुष्प्रभाव हमारे शरीर में जरुर होते है. पर होमियोपैथी और घरेलु उपचार के कोई दुष्प्रभाव नही है. इसलिए स्वस्थ जीवन सैली के लिए होमियोपैथी ही अजमाए.

आंखे लाल हो जाना :

laal ankho ke lie homeopathic ucpahr

laal ankh hone par gharelu nuskse

गाय के घी का काजल आँखों में लगाने से आंखे लाल होना बंद हो जाती है.
गुलाब को उबल कर पानी तैयार करें और इसमें फिटकरी मिला कर आँखों में इस पानी को छिडके.
आँखों के रस को गुनगुना कर आँखों में दो दो बुँदे डाले.

(और पढे : क्या आप के बाल हद से ज्यादा झड रहे है?)

आँखों में दर्द होना :

हल्दी को पानी में घिस कर आँखों में लगाये.
नीम के पत्तो को गरम पानी में उबाल कर आँखों में रखे. आँखों की सुजन और दर्द में लाभ मिलेगा.
हरे धनिया का रस निकल कर २-२ बुँदे आँखों में डाले.
आँखों को साफ़ पानी से छपके मारने से भी आँखों का दर्द ठीक हो जाता है.

गुहेरी (आंख के पास फुंसी ):

तुलसी के डंठल पानी में घिस कर गुहेरी पर लगाये.
गोमूत्र को आँख की फुंसी पर लगाये.
इमली के बिज को घिस कर इसका लेप आँखों की फुंसी पर करें.
अपनी हथली पर अँगुलियों को घिसकर गर्म गर्म लगाने से गुहेरी ठीक हो जाती है.

मोतियाबिन्द

अक्सर देखा गया है की मोतियांबिंद में डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह ही देते है परन्तु समय रहते अगर कुछ घरेलु और होम्योपैथिक उपचार आजमाया जाये तो जल्द ही इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है वो भी बिना ऑपरेशन के.

माँ का दूध आँखों में डालने से कई आँखों की समस्याओं से निजात मिलती है. २ माह तक हर दिन यदि माँ का दूध आँखों में डाला जाये तो मोतियाबिन्द गल जाता है.
गाय की बछिया का ताजा मूत्र मोतियाबिंद नाशक होता है.
मोतियाबिंद को काटने में रीठा को पानी में घिसकर आँखों में काजल की तरह लगाना चाहिये.
भुनी हुई हल्दी को पानी में मिला कर आँखों में लगाये.

इसके अलवा भी आँखों के कई रोग है. होमियोपैथी में आँखों के लिए बहुत अच्छी दवाए है जो बहुत कारीगर है.

(और पढे: कोरोना से बचाव के लिए आर्सेनिक एल्बम )

Cineraria Maritima:

होमियोपैथी में सिनेरारिया मरितिमा नाम से कई कंपनियो के आँखों के ड्राप आते है. सिनेरारिया आँखों के लिए बहुत ही अच्छी दवा है. इसको मोतियाबिंद, आँखों की कमजोरी, आँखों में दर्द, जैसी अनेखो आँखों की समस्याओं में इसे उपयोग किया जाता है.

इसके साथ ही कई अन्य लक्षण होते है जिसमे होमियोपैथी की सिनेरारिया मरितिमा को उपयोग किआ जाता है. बेहतर होगा की आप एक बार होम्योपैथिक डॉक्टर से परामर्श जरुर लें. आप चाहे तो साहस होम्योपैथिक में ऑनलाइन परामर्श हेतु 7249999404 इस नंबर पर संपर्क का सकते है. या फिर साहस होम्योपैथिक क्लिनिक, हल्द्वानी में डॉक्टर नवीन चन्द्र पाण्डेय जी से मिले.